Vrushali Anil Sonawane
  • Female
  • Mumbai
  • India
Share

Vrushali Anil Sonawane's Friends

  • Sanket Joshi

Vrushali Anil Sonawane's Groups

 

Vrushali Anil Sonawane's Page

Latest Activity

Sakshi garg liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 28, 2020
Geeta Negi liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 28, 2020
Firdous liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 28, 2020
Jayveersinh Aswar liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 27, 2020
Nagma Nigar liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 27, 2020
Sanket Joshi liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Dark mind!
Aug 27, 2020
Vrushali Anil Sonawane posted a blog post

Dark mind!

before him,she never bothered about anybody else.she never used to think about life with someone.it was his magical presencethat she was addicted tothat she always wanted to do everything for both of them.and somewhere between their love and scattered schedulelived a monster thought..the fear, that will take everything awayfear that will rip apart all the affection they ever built...but you my sweetheart,you know it way better than anything else,"distance don't fade away the love...a dark mind…See More
Aug 27, 2020
Jayveersinh Aswar liked Vrushali Anil Sonawane's blog post आदत
Aug 21, 2020
Vrushali Anil Sonawane joined Facestorys.com Admin's group
Thumbnail

Gulzar

A group dedicated to renowned Poet and writer Gulzar.See More
Aug 20, 2020
Vrushali Anil Sonawane posted a blog post

आदत

क्या कभी आदत लगी है किसिकी आपको?आदत इस कदरकी उनका गलत होना भी,आपको सही लगने लगता है।आदत इतनीकी चाहे नाराज़ आप हो,पर मनाना भी आपको ही पड़ता है।आदत इतनीकी किसिरोज़ उनसे बात ना हुई,तो दिल बेचैन होने लगता है।आदत इतनीकी हर झगड़े की बाद,उसे खोने का डर लगता है।आदत इतनीकी तेरा ज़िकर कोई और करे,तो दिल ये जलने लगता है।आदत इतनी कीतेरे एक आवाज़ से,मन पिघलने लगता है।कातिल ये आदत ही तो है,जो मुझे तुझसे जोड़े रखता है।वरना प्यार का तो दूसरा नाम कुर्बानी है,आज किसिपे कल किसी और पे आसकता है।-वृषालीSee More
Aug 20, 2020
Sanket Joshi liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Video call
Aug 19, 2020
Sakshi garg liked Vrushali Anil Sonawane's blog post Video call
Aug 19, 2020
Vrushali Anil Sonawane posted a blog post
Aug 19, 2020
Geeta Negi liked Vrushali Anil Sonawane's blog post तेरी आवाज़
Aug 18, 2020
Sakshi garg liked Vrushali Anil Sonawane's blog post तेरी आवाज़
Aug 18, 2020
Aarti Sanjay Bhagat liked Vrushali Anil Sonawane's blog post ये कोशिशें...
Aug 18, 2020

Profile Information

First Language
English, Hindi, Marathi
Second Language
Marathi
How did you come to know about us?
Stalked someone
Interests
Writing & Reading!

Comment Wall

You need to be a member of Facestorys.com to add comments!

Join Facestorys.com

  • No comments yet!

Vrushali Anil Sonawane's Blog

Dark mind!

Posted on August 27, 2020 at 5:52pm 0 Comments

before him,

she never bothered about anybody else.

she never used to think about life with someone.

it was his magical presence

that she was addicted to

that she always wanted to do everything for both of them.

and somewhere between their love and scattered schedule

lived a monster thought..

the fear, that will take everything away

fear that will rip apart all the affection they ever built...

but you my sweetheart,

you know it way better than…

Continue

आदत

Posted on August 20, 2020 at 7:06pm 0 Comments

क्या कभी आदत लगी है किसिकी आपको?

आदत इस कदर

की उनका गलत होना भी,

आपको सही लगने लगता है।



आदत इतनी

की चाहे नाराज़ आप हो,

पर मनाना भी आपको ही पड़ता है।



आदत इतनी

की किसिरोज़ उनसे बात ना हुई,

तो दिल बेचैन होने लगता है।



आदत इतनी

की हर झगड़े की बाद,

उसे खोने का डर लगता…

Continue

Video call

Posted on August 19, 2020 at 6:27pm 0 Comments

तेरी आवाज़

Posted on August 18, 2020 at 5:30pm 0 Comments

अब मैं इस लिए नहीं लिखती की मुझे कुछ कहना होता है,

अब मैं इस लिए लिखती हूँ

की मुझे मेरे लफ्ज़ तेरी आवाज़ में सुन्ना होता है

मैं चमक देखती हूँ तेरी इन् आँखों में

जब मेरा लिखा हर एक शब्द तू मुस्कुराते हुए पड़ता है,

वो तो मैं ही…

Continue
 
 
 

Blog Posts

पंच तत्व

Posted by Sakshi garg on February 16, 2021 at 11:18pm 0 Comments

जब मुझे पता चला कि तुम पानी हो
तो मै भीग गया सिर से पांव तक ।

जब मुझे पता चला कि तुम हवा की सुगंध हो
तो मैंने एक श्वास में समेट लिया तुम्हे अपने भीतर।

जब मुझे पता चला कि तुम मिट्टी हो
तो मै जड़ें बनकर समा गया तुम्हारी आर्द्र गहराइयों में।

जब मुझे मालूम हुआ कि तुम आकाश हो
तो मै फैल गया शून्य बनकर।

अब मुझे बताया जा रहा है कि तुम आग भी हो•••
तो मैंने खूद को बचा कर रख है तुम्हारे लिए।

तुम !

Posted by Jasmine Singh on February 16, 2021 at 7:23pm 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 30, 2021 at 10:38am 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 29, 2021 at 6:07pm 0 Comments

इस बात से डर लगता है

Posted by Monica Sharma on January 24, 2021 at 11:02pm 0 Comments

रूठ जाने को दिल चाहता है

पर मनाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

आंखों से बहते है झरने से आंसू

तुम हंसाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

कहते हो मुझ में खूबी बहुत है

गले से लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

इंतज़ार पर तेरे तो हक़ है मेरा

पर इस राह से आओगे या नही

इस बात से डर लगता है

ज़ख़्म इतने है के दिखा ना सके

मरहम लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

तेरे लिए मौत को भी गले लगा ले

आखिरी पल देखने आओगे या नही

इस…

Continue

प्यार का रिश्ता

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:50pm 0 Comments

शानदार रिश्ते चाहिए

तो उन्हें गहराई से निभाएं

भूल होती है सभी से

पर अपनों के ज़ख्मों पर मरहम लगाए

तेरी मीठी सी मुस्कान

दवा सा असर दिखाती है

कंधे पर रख कर सिर

जब तू मुझे समझाती है

ग़म की गहरी काली रात भी

खुशनुमा सुबहों में बदल जाती है

मैं साथ हूं तेरे ये बात जब तू दोहराती है

मिस्री सी जैसे मेरे कानों में घुल जाती है

सुनो। कह कर जब बहाने से तू मुझे बुलाती है

मेरे" जी" कहने पर फिर आंखों से शर्माती है

बिन कहे तू जब इतना प्यार…

Continue

मेरा सच

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:30pm 0 Comments

जवाब दे सको शायद

ये तेरे लिए मुमकिन ही नही

मगर इंतजार पर आपके

बस हक़ है मेरा

बिन कहे तेरी आंखों को पढ़

ले जिस दिन

समझो इश्क़ मुकमिल हुआ मेरा उस दिन

हसरत है तेरी ज़रूरत नहीं ख्वाहिश बन जाएं

जिद है मेरी हर सांस पे तेरा नाम आए

जिस दिन देख मेरी आंखों की नमी

तुझे महसूस हो जाएं कहीं मेरी कमी

मेरे सवाल तुमसे जुड़ने का बहाना है

वरना हमें भीड़ में भी नही ठिकाना है

जीते है तुझे खुश करने को हम

तेरे आंगन में खुशियों के रंग भरने को…

Continue

© 2021   Created by Facestorys.com Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Privacy Policy  |  Terms of Service