Ali Asgar M. Devjani
  • Male
  • Ahmedabad,Gujarat
  • India
Share

Ali Asgar M. Devjani's Friends

  • Hardik Shastri
  • Nihal Singh
  • Naresh Barot
  • Chital manish Gandhi
  • chaitali jogi
  • Lakhani Mitul ( એન્જલ )
  • Upasana Acharya
  • Karan Desai
  • Anil Joshi
  • Anil Chavda
  • Dhruti Sanjiv
  • Rekha Shukla
  • Hardik Vora
  • Chandresh Thakore
  • alpesh vaghela
 

Welcome, Ali Asgar M. Devjani!

Profile Information

First Language
Gujarati
Second Language
Hindi
Interests
Reading,Writing poems & articles , cricket,Photography

Ali Asgar M. Devjani's Blog

Summer's Rain

Posted on April 23, 2013 at 11:18am 0 Comments

Summer started it's work

heat just raised it's bat

to play the shot

to break the records

within the few balls

Days Whom we call

dams & rivers dried 

peoples brains & bodies 

were almost…

Continue

ABCD By Father

Posted on April 14, 2013 at 10:26am 1 Comment

A for Apple

And B for ball

My little angel

Plays with her doll.…

Continue

જો ઉનાળા તારી ઋતુનું સ્વાગત

Posted on April 7, 2013 at 8:00pm 0 Comments

જો ઉનાળા તારી ઋતુનું સ્વાગત કેવું થાય છે ,

શહેર આખુ રખડતો માનવી ઘરમાં પુરાય છે .

ચાર વાગ્યાની ચા ની ચુસ્કીયોની જગ્યા ,

ઠંડાપીણા અને જ્યુસ વડે છીનવાય છે . 

વૃક્ષોને જડમૂળ માંથી કાપનાર પોતે ,

છાયાની શોધમાં ફરતો દેખાય  છે .જો ઉનાળા તારી ...

 થાય ફળો…

Continue

एक नया दौर

Posted on April 1, 2013 at 11:59am 0 Comments

चिन्टूमिंया मंदी से हार गए थे,

धंधे एक - दो नहीं चार गए थे,
 …
Continue

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Facestorys.com to add comments!

Join Facestorys.com

At 11:39am on July 12, 2013, arvind gogiya said…

We Wish U All The Joys, UR Heart Can Hold All The Smile, A Day Can Bring All The Blessing, >Life Can U Fold.. !! (-: )( H A P P Y )( B I R T H )( D A Y )(

 
 
 

Blog Posts

पंच तत्व

Posted by Sakshi garg on February 16, 2021 at 11:18pm 0 Comments

जब मुझे पता चला कि तुम पानी हो
तो मै भीग गया सिर से पांव तक ।

जब मुझे पता चला कि तुम हवा की सुगंध हो
तो मैंने एक श्वास में समेट लिया तुम्हे अपने भीतर।

जब मुझे पता चला कि तुम मिट्टी हो
तो मै जड़ें बनकर समा गया तुम्हारी आर्द्र गहराइयों में।

जब मुझे मालूम हुआ कि तुम आकाश हो
तो मै फैल गया शून्य बनकर।

अब मुझे बताया जा रहा है कि तुम आग भी हो•••
तो मैंने खूद को बचा कर रख है तुम्हारे लिए।

तुम !

Posted by Jasmine Singh on February 16, 2021 at 7:23pm 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 30, 2021 at 10:38am 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 29, 2021 at 6:07pm 0 Comments

इस बात से डर लगता है

Posted by Monica Sharma on January 24, 2021 at 11:02pm 0 Comments

रूठ जाने को दिल चाहता है

पर मनाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

आंखों से बहते है झरने से आंसू

तुम हंसाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

कहते हो मुझ में खूबी बहुत है

गले से लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

इंतज़ार पर तेरे तो हक़ है मेरा

पर इस राह से आओगे या नही

इस बात से डर लगता है

ज़ख़्म इतने है के दिखा ना सके

मरहम लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

तेरे लिए मौत को भी गले लगा ले

आखिरी पल देखने आओगे या नही

इस…

Continue

प्यार का रिश्ता

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:50pm 0 Comments

शानदार रिश्ते चाहिए

तो उन्हें गहराई से निभाएं

भूल होती है सभी से

पर अपनों के ज़ख्मों पर मरहम लगाए

तेरी मीठी सी मुस्कान

दवा सा असर दिखाती है

कंधे पर रख कर सिर

जब तू मुझे समझाती है

ग़म की गहरी काली रात भी

खुशनुमा सुबहों में बदल जाती है

मैं साथ हूं तेरे ये बात जब तू दोहराती है

मिस्री सी जैसे मेरे कानों में घुल जाती है

सुनो। कह कर जब बहाने से तू मुझे बुलाती है

मेरे" जी" कहने पर फिर आंखों से शर्माती है

बिन कहे तू जब इतना प्यार…

Continue

मेरा सच

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:30pm 0 Comments

जवाब दे सको शायद

ये तेरे लिए मुमकिन ही नही

मगर इंतजार पर आपके

बस हक़ है मेरा

बिन कहे तेरी आंखों को पढ़

ले जिस दिन

समझो इश्क़ मुकमिल हुआ मेरा उस दिन

हसरत है तेरी ज़रूरत नहीं ख्वाहिश बन जाएं

जिद है मेरी हर सांस पे तेरा नाम आए

जिस दिन देख मेरी आंखों की नमी

तुझे महसूस हो जाएं कहीं मेरी कमी

मेरे सवाल तुमसे जुड़ने का बहाना है

वरना हमें भीड़ में भी नही ठिकाना है

जीते है तुझे खुश करने को हम

तेरे आंगन में खुशियों के रंग भरने को…

Continue

© 2021   Created by Facestorys.com Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Privacy Policy  |  Terms of Service