Thodi sone si dhoop hai...

Thodi chandi si chandni....

Thoda gam tumhe bhi hai...

Thoda mujhe bhi...

Thodi bebasi hai...

Aankhe teri bhi nam hai....

Meri bhi...

Chal aaj fir ithlate hai....

Muskurate hai....

Aaj dil se puchha aakhir tu kyun khamosh hai...

Hontho pe jo baat kabhi aa na saki...

Aankho me woh kyun jhalakne lagi ??

Khamoshi ka yeh samaa kab tak chalega...

Pattiyo ne mujhse kaha "Duniya me aisa hi hota hai"..

Jugnu ke pichhe pichhe pata naahi kahan chale aaye....

Shayad wo wadiyaan kho gayi hai....

Aaj dil se puchha aakhir tu kyun khamosh hai....

Nange pair chale the wo raaho par...

Aaj raahe bhi alag hai aur manzile bhi....

Jab jab gam ka baadal chhaya, jaane kyun jee ghabraaya...

Aankho ke rang kabhi na dekh paye hum....

Thode rang mere bhi berang hai....

Thode rang tere bhi berang hai...

Aaj dil se pucha aakhir tu kyun khamosh hai.....

Waqt ne mujhe bhi nachaaya hai....

Tujhe bhi.....

Sab is waqt ki kathputliyaan hai....

ekk din ye saans bhi khamosh ho jayengi....

Yeh jo gehre sannate hai....

Chikhti hui lehron ki goud me kyun tu soya hai....

Aaj dil se pucha aakhir tu kyun khamosh hai......

Aaj dil se pucha aakhir tu kyun khamosh hai....

Views: 172

Replies to This Discussion

utsav hi , have u written this ?

RSS

Blog Posts

पंच तत्व

Posted by Sakshi garg on February 16, 2021 at 11:18pm 0 Comments

जब मुझे पता चला कि तुम पानी हो
तो मै भीग गया सिर से पांव तक ।

जब मुझे पता चला कि तुम हवा की सुगंध हो
तो मैंने एक श्वास में समेट लिया तुम्हे अपने भीतर।

जब मुझे पता चला कि तुम मिट्टी हो
तो मै जड़ें बनकर समा गया तुम्हारी आर्द्र गहराइयों में।

जब मुझे मालूम हुआ कि तुम आकाश हो
तो मै फैल गया शून्य बनकर।

अब मुझे बताया जा रहा है कि तुम आग भी हो•••
तो मैंने खूद को बचा कर रख है तुम्हारे लिए।

तुम !

Posted by Jasmine Singh on February 16, 2021 at 7:23pm 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 30, 2021 at 10:38am 0 Comments

Posted by Monica Sharma on January 29, 2021 at 6:07pm 0 Comments

इस बात से डर लगता है

Posted by Monica Sharma on January 24, 2021 at 11:02pm 0 Comments

रूठ जाने को दिल चाहता है

पर मनाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

आंखों से बहते है झरने से आंसू

तुम हंसाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

कहते हो मुझ में खूबी बहुत है

गले से लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

इंतज़ार पर तेरे तो हक़ है मेरा

पर इस राह से आओगे या नही

इस बात से डर लगता है

ज़ख़्म इतने है के दिखा ना सके

मरहम लगाओगे या नही

इस बात से डर लगता है

तेरे लिए मौत को भी गले लगा ले

आखिरी पल देखने आओगे या नही

इस…

Continue

प्यार का रिश्ता

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:50pm 0 Comments

शानदार रिश्ते चाहिए

तो उन्हें गहराई से निभाएं

भूल होती है सभी से

पर अपनों के ज़ख्मों पर मरहम लगाए

तेरी मीठी सी मुस्कान

दवा सा असर दिखाती है

कंधे पर रख कर सिर

जब तू मुझे समझाती है

ग़म की गहरी काली रात भी

खुशनुमा सुबहों में बदल जाती है

मैं साथ हूं तेरे ये बात जब तू दोहराती है

मिस्री सी जैसे मेरे कानों में घुल जाती है

सुनो। कह कर जब बहाने से तू मुझे बुलाती है

मेरे" जी" कहने पर फिर आंखों से शर्माती है

बिन कहे तू जब इतना प्यार…

Continue

मेरा सच

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:30pm 0 Comments

जवाब दे सको शायद

ये तेरे लिए मुमकिन ही नही

मगर इंतजार पर आपके

बस हक़ है मेरा

बिन कहे तेरी आंखों को पढ़

ले जिस दिन

समझो इश्क़ मुकमिल हुआ मेरा उस दिन

हसरत है तेरी ज़रूरत नहीं ख्वाहिश बन जाएं

जिद है मेरी हर सांस पे तेरा नाम आए

जिस दिन देख मेरी आंखों की नमी

तुझे महसूस हो जाएं कहीं मेरी कमी

मेरे सवाल तुमसे जुड़ने का बहाना है

वरना हमें भीड़ में भी नही ठिकाना है

जीते है तुझे खुश करने को हम

तेरे आंगन में खुशियों के रंग भरने को…

Continue

© 2021   Created by Facestorys.com Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Privacy Policy  |  Terms of Service