vishal chokshi bjp
  • Male
  • ahmedabad, gujarat
  • India
Share

Vishal chokshi bjp's Friends

  • Rekha M Shukla
  • Twinkle Parekh
  • Lagani Vyas
  • Noopur Shah
  • Anil Joshi
  • sneha h.patel - akshitarak
 

vishal chokshi bjp's Page

Profile Information

First Language
Gujarati
Second Language
English

Vishal chokshi bjp's Blog

dikari

Posted on April 9, 2015 at 5:46pm 0 Comments

જાણે કેટલી પરીઓએ મળીને
પ્રાથના કરી હશે !
ત્યારે ભગવાને
દુનિયાને દીકરી આપી હશે ...!!

good morning

Posted on March 11, 2015 at 9:40am 0 Comments

જયારે પોતાની જાત ઉપર અભિમાન થવા લાગે ત્યારે,

એક આંટો સ્મશાન માં મારી લેવો ...

gud noon

Posted on February 25, 2015 at 3:57pm 0 Comments

દુનિયા નો હર ૧ વ્યક્તી પોતાનો પગ ભીનો કર્યા વગર કદાચ દરિયો પાર કરી શકે પરંતુ આંખ ભીની કર્યા વગર પ્રેમ ના કરી શકે
-પ્રેમ

gud evening

Posted on February 24, 2015 at 5:37pm 0 Comments

સાદગીની છે મારા પર કંઈક એવી અસર,કે સજવું કેમ? એની નથી મને કોઈ ખબર.પણ સોળે શ્રુંગારથી સજી જાઉં છું હું,જયારે મારા પર પડે છે એમની નજર.સૌન્દર્ય પ્રસાધનો પણ વ્યર્થ છે મારા માટે,કેમ કે એ કરે છે મારા મનની સુંદરતાની .....

Comment Wall

You need to be a member of Facestorys.com to add comments!

Join Facestorys.com

  • No comments yet!
 
 
 

Blog Posts

मेरा प्यार मुझसे रूठ गया

Posted by Monica Sharma on September 22, 2020 at 7:25pm 0 Comments

एक तारा अंबर से टूट सा गया

मेरा प्यार मुझसे रूठ सा गया

जाने किस बात पर की अनबन

तोड़ लिया रिश्ता जैसे टूटे दर्पण

कहा था तुमने कभी तुम छाता हो मेरा

संभालू ठीक से तो उम्र भर रहेगा मेरा

बदलकर आज वो मुझे लूट सा गया

मेरा प्यार मुझसे रूठ सा गया

मनाया लाख पर उसने कहां मानी

मेरे प्यार को समझा कोई झूठी कहानी

हज़ारों बार मैंने उसे फ़रियाद भेजी

पर वक़्त की कमी में उसने न देखी

संग चलने का वादा था वो टूट सा गया

मेरा प्यार मुझसे रूठ सा…

Continue

एक तरफा प्यार

Posted by Sakshi garg on September 21, 2020 at 5:21pm 0 Comments

कभी कभी लगता है कि तुमसे मेरा प्यार आज भी एक तरफा ही है ।

तुम्हारी एक झलक के लिए मै हर पल उतावली हूं, 

तुम भी देखो मुझे प्यार से इसी की मैं प्यासी हूं, 

पर तुम देखते ही नहीं मुझे उस तरह, 

जिस तरह मै देखती हूं तुम्हे हर दफा, 

शायद किस्मत मुझसे खफा ही है... 

कभी कभी लगता है कि तुमसे मेरा प्यार आज भी एक तरफा ही है ।।

जो रातें अकसर जागती हूँ तेरी यादों में उनका कहीं बहीखाता होगा क्या ..Ra$hi

Posted by Rashmi on September 19, 2020 at 9:44pm 0 Comments

जो रातें अकसर जागती हूँ तेरी यादों में उनका कहीं बहीखाता होगा क्या ..Ra$hi

Continue

मेरे पतिदेव

Posted by Monica Sharma on September 18, 2020 at 8:14pm 0 Comments

लाखों की भीड़ में सबसे जुदा

मानो न मानो वो है मेरा खुदा

दिल में न उसके है कोई फरेब

ऐसे प्यारे से है मेरे पतिदेव

हर जिम्मेदारी को हंस कर निभाना

हो मुश्किल कभी तो लगे गाने गाना

ढूंढ न सकोगे उनमें कोई भी एब

ऐसे प्यारे से है मेरे पतिदेव

चाहत कभी वो जताते नही

मीठी- मीठी बातें कभी वो बनाते नही

सातों जन्म न मिले तो होगा मुझे खेद

ऐसे प्यारे से है मेरे पतिदेव

तेरा गुस्सा और नखरा सब सह जाऊंगी

बहती आंखों से बाते सब कह जाऊंगी

तेरी…

Continue

Radhakrishn

Posted by Sakshi garg on September 18, 2020 at 12:12pm 0 Comments

चेहरा नहीं किताब हैं वो !

Posted by Jasmine Singh on September 18, 2020 at 12:01pm 0 Comments

चेहरा नहीं किताब हैं वो,
आम होकर भी बहुत नायाब हैं वो,
रोज़ करती हूं कोशिश,
उन हसरतों को पढ़ने की,
जिन्हे छुपाने में बहुत उस्ताद हैं वो !
© Reserved by Jasmine Singh

कोई इस तरह चाहने वाला मिले तो बताना

Posted by Sakshi garg on September 18, 2020 at 9:24am 0 Comments

कोई इस तरह चाहने वाला मिले तो बताना ।

मेरी हंसी को देख जिसका दिल खिल जाए

मेरी पाज़ेब की झंकार सुन जो अपनी थकान भूल जाए

कोई इस तरह चाहने वाला मिले तो बताना ।

मेरी हर शरारत पे जो सहसा ही मुस्कुरा दे

मेरी हर नादानी पर जो अपनी मुस्कान बिखरा दे

कोई इस तरह चाहने वाला मिले तो बताना ।

मेरी जुल्फों के साए में जो सुकून पा जाए

मेरी हर अदा जिसके दिल में घर कर जाए

कोई इस तरह चाहने वाला मिले तो बताना ।

मेरे प्यार भरी नजर से देखने पर जिसका दिन बन…

Continue

डायरी के कुछ पन्ने

Posted by Rashmi on September 17, 2020 at 11:11pm 0 Comments

डायरी के कुछ पन्नो को सादा छोड़ दिया
सोचा जब तुम मिलोगे तो अपनी कहानी लिखेंगे ,
वो डायरी के पन्ने आज भी तुम्हारी राह तक रहे हैं..
Ra$hi...

तुम हो ख़ास

Posted by Monica Sharma on September 16, 2020 at 2:38pm 0 Comments

दूर रह कर भी तुम से जुड़ी है आस

अब तो समझ जाओ के तुम हो ख़ास

बारिश की पहली बूंद से हो तुम

पत्तों पे गिरी ओस से हो गुम

देखने से तुमको रुकती हर सांस

अब तो समझ जाओ के तुम हो ख़ास

मेरी यादों से जुड़े एहसास हो

मेरी कविता में लिखे अल्फ़ाज़ हो

मेरी आंखों को जो सुकून दे

वो जलता हुआ चिराग हो

राधा मैं तेरी कब रचाओगे रास

अब तो समझ जाओ के तुम हो ख़ास

तेरी आवाज़ की खनक,मेरी आंखो में चमक लाती है

जैसे रेगिस्तान में कही दूर बारिश की सदा आती…

Continue

© 2020   Created by Facestorys.com Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Privacy Policy  |  Terms of Service