2uvr7d5h9dfm9

Jay Vasavada - Writer and Public Speaker

Information

Jay Vasavada - Writer and Public Speaker

The most popular writer among gujarati youth nd very well known public speaker. His very popular columns are Spectrometer & Anavrut.

Members: 203
Latest Activity: Dec 4, 2017

Comment Wall

Comment

You need to be a member of Jay Vasavada - Writer and Public Speaker to add comments!

Comment by BHUPENDRASINH R RAOL on August 3, 2013 at 7:14pm

જય વસાવડા ખાલી પબ્લિક સ્પીકર નહિ પણ મોટીવેશનલ સ્પીકર છે. "અભિપ્રેરણાત્મક વક્તા" કહેવું વધુ યોગ્ય લાગે છે.

Comment by Siddharth Patel on July 31, 2013 at 7:56pm

મૂર્ખાઈનું મહાભારત: કહેતા ભી દીવાના, સુનતા ભી દીવાના...

Today's ANAVRUT was simply great by JV.

Comment by Siddharth Patel on May 14, 2013 at 11:06am
Mane to prem ni anubhooti pachhi j nastik banvano vichar aavyo hato.... lol
Comment by MeEt Panchal on April 23, 2013 at 2:34pm

Jay ho..... ! :)

Comment by Siddharth Patel on April 23, 2013 at 12:53pm

@Farzana - Why don't start a discussion on that here? ^^

Comment by Siddharth Patel on April 21, 2013 at 8:49pm

'ગુજરાત સમાચાર' ની સાઈટ પર કોઈ feedback નો સારો option નથી. અહિયાં એ લેખો વિષે સારી રીતે discussion કરી શકાય છે, because JV sir દર વખતે એ articles ને share નથી કરતા.

Comment by Siddharth Patel on April 18, 2013 at 5:42pm

A very good place to discuss about the articles of JV sir because the Gujarat Samachar website is not having such kind of facility which can be used.

Comment by Facestorys.com Admin on April 14, 2013 at 1:04pm
Comment by Hitesh swami on April 13, 2013 at 5:37pm
hi jaybhai maja ma cho ne?
Comment by alpesh vaghela on April 12, 2013 at 11:21am

jaysir is my favourite writer. temnu lakhan lokone vanchta ane vicharta pan kare chhe.

 

Members (203)

 
 
 

Blog Posts

प्यार का रिश्ता

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:50pm 0 Comments

शानदार रिश्ते चाहिए

तो उन्हें गहराई से निभाएं

भूल होती है सभी से

पर अपनों के ज़ख्मों पर मरहम लगाए

तेरी मीठी सी मुस्कान

दवा सा असर दिखाती है

कंधे पर रख कर सिर

जब तू मुझे समझाती है

ग़म की गहरी काली रात भी

खुशनुमा सुबहों में बदल जाती है

मैं साथ हूं तेरे ये बात जब तू दोहराती है

मिस्री सी जैसे मेरे कानों में घुल जाती है

सुनो। कह कर जब बहाने से तू मुझे बुलाती है

मेरे" जी" कहने पर फिर आंखों से शर्माती है

बिन कहे तू जब इतना प्यार…

Continue

मेरा सच

Posted by Monica Sharma on January 7, 2021 at 6:30pm 0 Comments

जवाब दे सको शायद

ये तेरे लिए मुमकिन ही नही

मगर इंतजार पर आपके

बस हक़ है मेरा

बिन कहे तेरी आंखों को पढ़

ले जिस दिन

समझो इश्क़ मुकमिल हुआ मेरा उस दिन

हसरत है तेरी ज़रूरत नहीं ख्वाहिश बन जाएं

जिद है मेरी हर सांस पे तेरा नाम आए

जिस दिन देख मेरी आंखों की नमी

तुझे महसूस हो जाएं कहीं मेरी कमी

मेरे सवाल तुमसे जुड़ने का बहाना है

वरना हमें भीड़ में भी नही ठिकाना है

जीते है तुझे खुश करने को हम

तेरे आंगन में खुशियों के रंग भरने को…

Continue

एक सच

Posted by Monica Sharma on December 4, 2020 at 2:12pm 0 Comments

तुम से लड़ते हैं के मेरे
लिए "ख़ास" हो तुम ।
अपने ना होते तो"हार"
कर जाने देते तुम्हें ।
हक़ जताते है तुम पर
क्युकिं
हक़ दिया है तुमने
बेवजह तो इजाज़त"अश्कों"
को भी नही देते हुए हम

मोनिका शर्मा

ज़िंदगी ......!

Posted by Jasmine Singh on December 2, 2020 at 11:02pm 0 Comments

ज़िंदगी एक अंधेरे बंद कमरे सी लगने लगी है !

यहां से बाहर जाने का दरवाज़ा तो है,

पर पता नहीं किस तरफ कितनी दूर,

और उसकी चाबी का भी कुछ पता नहीं !

वो भी मेरी तरह इस अंधेरे में गुम पड़ी है कहीं !

रोशनी का एक कतरा भी अंदर आ पाता नहीं !

इसलिए वक़्त का कुछ अंदाज़ा हो पाता नहीं !

कायम रहता है तो बस अंधेरा बस खामोशी ,

और मेरी हर पल तेज होती धड़कन ,

जैसे जैसे धड़कन बढ़ती है ये घबराहट भी और बढ़ती है,

और ये अंधेरा जैसे और काला हुआ जाता है ,

जैसे…

Continue

तुझको लिखती रहूंगी मैं, तुझको जीती रहूंगी मैं !

Posted by Jasmine Singh on December 2, 2020 at 9:41am 0 Comments

तुझे लिखती रहूंगी मैं

तेरे प्यार की स्याही में

अपनी कलम को डुबो कर

इस ज़िंदगी के पन्नों पे

तेरे साथ जिये लम्हों को

कविताओं में बुनकर

तुझको लिखती रहूंगी मैं

तुझको जीती रहूंगी मैं

तू वो है जो मेरे साथ है

और मेरे बाद भी रहेगा

कभी किसी के होठों में हंसेगा

किसी की आंखों से बहेगा

किसी अलमारी के पुराने

दराज की खुशबु में महकेगा

किसी की आंखों की गहराई

जब जब मेरे शब्दों में उतरेगी

तब तब मेरे बाद तुझे पढ़ने वालों के…

Continue

Distance

Posted by Jasmine Singh on November 28, 2020 at 10:36pm 0 Comments

Your absence always silenced the distance
Perhaps it was your presence in the distance
I wonder how will I cover this distance
May be this distance is not the distance
Actually responsibilities are the distance
One day we will swim across this distance
We will float on love and mock this distance
Hail and hearty we stay away from the distance
I pray no one gets to experience the distance
©Reserved by Jasmine Singh

प्रेम

Posted by Monica Sharma on November 27, 2020 at 8:00pm 0 Comments

ये प्रेम और परवाह की,
कवायद भी अजीब है।
पाया नही है जिसको,उसे
खोना भी नही चाहते
हो ना सके तेरे जो,
किसी और के भी होना नही चाहते
हमें इश्क़ है तुमसे, ये ज़माने को दिखाएंगे
तेरी ख़ामोशी को अपने ,बोल हम बनाएंगे
मोहब्बत आज भी तुझसे है,कल भी करेंगे
अपनी आख़िरी सांस तक,
हम मोहब्बत ही निभायेगे
तेरे सजदे में एक बार नही
सौ बार सर झुकाएंगे
अगर सच्ची है मोहब्बत मेरी,
तो सातों जन्म हम तुम्हें पाएंगे....

© 2021   Created by Facestorys.com Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Privacy Policy  |  Terms of Service